न्यूज

अफगानिस्तान में गरीबी की इंतेहा: बच्चों को भूखा सुलाने के लिए मां दे रही ड्रग्स, बेच रहे अंग और बेटियां

27views


हाइलाइट्स

आधी आबादी के पास खाना नहीं, 10 लाख बच्चे कुपोषित
भूख से महफूज रखने मासूम बच्चियों की करा रहे शादी

अफगानिस्तान. अफगानिस्तान में तालिबान शासन आते ही पूरे देश में भुखमरी के भयावह मंजर देखने को मिल रहे हैं. लोगों के पास खाने को नहीं है. काम धंधा खत्म हो चुका है. तालिबान शासन के आने से अंतर्राष्ट्रीय सहायताएं भी बिल्कुल खत्म हो चुकी हैं. जो खबरें अब सामने आ रही हैं उसमें यहां के लोग अपने बच्चों को नींद की दवा देकर इसलिए सुला रहे हैं कि वह उनसे खाना न मांगे. भूख और बेकारी ऐसी कि लोग अपने अंग भी बेच देने को तैयार हैं. बेटियों को भी बेच रहे हैं. यह हालात कोई एक दो परिवारों के नहीं हैं, बल्कि अधिकांश परिवारों में कुछ इसी तरह की स्थितियां देखने को मिल रही हैं.

जो रिपोर्ट सामने आ रही हैं उनमें दावा किया जा रहा है कि अफगानिस्तान में तालिबान शासन आने के बाद काम धंधा खत्म हो गया है. लोग बेरोजगार हो गए हैं. खाने तक के लाले पड़ गए हैं. परिवार के लोग भूखे सोने को मजबूर हैं. अपने बच्चों को भूख से तड़पता देख वह रोने लगते हैं. कुछ अफगानी कैमरे के सामने भी कहते देखे गए हैं कि उनके पास न काम है न खाना. भूख लगती है तो वे नींद की दवा खा लेते हैं. खाना मांगने के लिए बच्चे रोते हैं तो उनको भी नींद की गोली खिलाकर सुला देते हैं.

भूख से महफूज रखने मासूम बच्चियों की करा रहे शादी
यहां की महिलाओं पर सख्त पाबंदियां लगाई जा रही हैं. 15 अगस्त 2021 को अफगानिस्तान में एक बार फिर से तालिबान की सत्ता काबिज हुई. इस दिन से लोगों और खासकर महिलाओं की परेशानियां बढ़ गई हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यहां के लोग गरीबी और भुखमरी के चलते अपने बच्चे को भी बेचने लगे हैं. मासूम बच्चियों की शादी भी करा रहे हैं, ताकि उन्हें भूख से महफूज रखा जा सके.

आधी आबादी के पास खाना नहीं, 10 लाख बच्चे कुपोषित
संयुक्त राष्ट्र के विश्व खाद्य कार्यक्रम (वर्ल्ड फूड प्रोग्राम WFP) के अनुसार, अफगानिस्तान की आधी आबादी खाद्य असुरक्षा का सामना कर रही है. वहीं 95 फीसदी आबादी के पास खाने के लिए पर्याप्त भोजन ही नहीं है. इस देश में पांच से कम आयु के 10 लाख से अधिक बच्चे गंभीर कुपोषण का शिकार हो चुके हैं.

Tags: Afghanistan news, Hunger, Taliban News



Source link

Leave a Response