लाइफस्टाइल

घुटनों को मजबूत बना सकती है बैकवर्ड वॉक, इन एक्‍सरसाइज को भी करें ट्राई

25views


हाइलाइट्स

घुटने के दर्द में राहत दे सकती है बैकवर्ड वॉक.
हिप और टखने की एक्टिविटी से कम हो सकता है घुटने का दर्द.
नियमित एक्‍सरसाइज से घुटने को मजबूत बनाया जा सकता है.

Exercises  For Strong Knees – कई लोगों को सीढ़ी चढ़ने और अधिक चलने की वजह से घुटने में दर्द महसूस होने लगता है. घुटना एक महत्‍वपूर्ण ज्‍वाइंट होता है जो शरीर का सारा भार उठाने में मदद करता है इसलिए घुटने का मजबूत होना जरूरी है. कई बार लापरवाही के चलते लोग घुटनों के दर्द की ओर ध्‍यान नहीं देते जो समय के साथ और अधिक बढ़ता चला जाता है. आगे चलकर यही दर्द ज्‍वाइंट्स पेन या अर्थराइटिस में तब्दील हो सकता है. घुटनों को मजबूत बनाने के लिए एक्‍सरसाइज रुटीन में बदलाव किया जा सकता है. नार्मल वॉक की बजाए बैकवर्ड वॉक को अपनाना ज्‍यादा फायदेमंद हो सकता है. बैकवर्ड वॉक करने में शुरुआत में थोड़ी मुश्किल हो सकती है लेकिन इससे चलते वक्‍त घुटने पर पड़ने वाले प्रेशर को कम किया जा सकता है. इसके अलावा कई ऐसी एक्‍सरसाइज हैं जो घुटने को मजबूत बना सकती हैं. चलिए जानते हैं इसके बारे में.

बैकवर्ड वॉक
जिन लोगों के घुटने में दर्द रहता है उन्‍हें बैकवर्ड वॉक का सहारा लेना चाहिए. हेल्‍थ शॉट्स के अनुसार बैकवर्ड वॉक करने से घुटने पर पड़ने वाले भार और प्रभाव को कम किया जा सकता है. बैकवर्ड वॉक करने के लिए खाली रोड या पैसेज का चुनाव किया जा सकता है. दिन में 15-20 मिनट बैकवर्ड वॉक करके घुटने के दर्द को कम किया जा सकता है.

पैरों की उंगलियां उठाना
पैरों की उंगलियां उठाने से पैरों को मजबूती मिलती है और बैलेंस में भी सुधार होता है. इस एक्‍सरसाइज को करने से पैरों के दर्द को कम करने में मदद मिलती है. इसे करने के लिए पैरों के बल सीधे खड़े हो जाए और आगे की ओर देखें. फिर धीरे-धीरे पैरों की उंगलियां उठाएं और 2 सेकेंड तक उंगलियों को ऐसे ही रखें. इस प्रक्रिया को 6 बार दोहराएं. एक्‍सरसाइज को दिन में तीन बार करें. इस एक्‍सरसाइज से घुटने की मांसपेशियों को मजबूती मिलती है.

यह भी पढ़ें- गाजर की पत्तियां भी हैं सेहत के लिए वरदानखाने में करें शामिल

पैट्रिक स्‍टेप
पैट्रिक स्‍टेप उन एक्‍सरसाइज में से एक है जो शरीर के वीएमओ को मजबूत करता है. वीएमओ वह मांसपेशियां हैं जो घुटने पर होने वाले भार या दबाव के कारण सिकुड़ती हैं. पैट्रिक स्‍टेप के दौरान उंगलियों और घुटनों को एक साथ वर्क करना पड़ता है. इससे घुटने को मजबूती मिल सकती है.

ये भी पढ़ें: सलाद में रोज शामिल करें गाजर, सेहत को मिलेंगे कई सारे फायदे

हिप और टखने की एक्टिविटी
हिप और टखने की एक्टिविटी करने से घुटने के दर्द और जकड़न को कम किया जा सकता है. इसके लिए लंग्‍स कोट्स, बटरफ्लाई हिप स्‍ट्रेच और फ्रॉग स्‍ट्रेच आदि एक्‍सरसाइज की जा सकती हैं. इससे हिप और घुटने दोनों को मजबूती मिलती है.

Tags: Health, Joint pain, Lifestyle



Source link

Leave a Response