ऑटो

स्मार्टफोन रेनिंग सेफ्टी टिप्स: बारिश में भीग जाए स्मार्टफोन, तो बिना कुछ सोचे उसे सबसे पहले ऑफ कर दें; फिर इन स्टेप्स को करें फॉलो

89views


नई दिल्ली34 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

बारिश के मौसम में घर से बाहर निकलते वक्त फोन के भीगने का डर सबसे ज्यादा सताता है। पानी के डर से हमें फोन या तो किसी पॉलिथीन में रखना पड़ता है, या फिर उसे घर छोड़ना पड़ता है। हालांकि कई बार पूरा एहतियात बरतने के बाद भी पानी फोन में चला जाता है। आपके साथ भी ऐसी स्थिति बन जाए, तब बिना घबराए फोन को सुखाने के बारे में सोचना चाहिए। साथ ही, जल्दबाजी में कोई कदम नहीं उठाना चाहिए।

हम आपको ऐसे ही कुछ टिप्स बता रहे हैं जो फोन के पानी में भीगने या पानी में गिर जाने पर आपके काम आ सकते हैं। इसकी मदद से आप फोन को खराब होने से बचा सकते हैं। तो चलिए जानते हैं इन टिप्स के बारे में…

अगर फोन पानी में भीग गया है तो सबसे पहले उसे ऑफ कर दें। फोन के ऑन रहते हुए अगर पानी अंदर के किसी हिस्से में चला गया तो शॉट सर्किट भी हो सकता है। ध्यान रहे अगर फोन पानी में गिर गया है, या भीग गया है तो ये चेक करने की कोशिश ना करें कि उसका कोई बटन चल रहा है या नहीं। सबसे पहले उसे ऑफ करना ही समझदारी होगी।

भीगे हुए फोन को ऑफ करने के बाद उसकी सभी एक्सेसरीज को अलग कर दें। यानी बैटरी, सिम कार्ड, मेमोरी कार्ड के साथ फोन से अटैच की हुई कॉर्ड को भी अलग करके सूखे हुए टॉवल पर रखें। इन सभी एक्सेसरीज को अलग करने से शॉर्ट सर्किट का खतरा कम हो जाएगा।

अगर आपके फोन में नॉन-रिमूवेबल बैटरी है (फोन में फिक्स रहने वाली बैटरी) तो बैटरी निकालकर ऑफ करने का विकल्प खत्म हो जाएगा। ऐसे में पावर बटन को उस समय तक दबाकर रखें जब तक फोन बंद नहीं हो जाता। नॉन रिमूवेबल बैटरी के कारण फोन में शॉर्ट सर्किट हो सकता है।

फोन की एक्सेसरीज को अलग करने के बाद फोन के सभी पार्ट्स को सुखाना जरूरी है। इसके लिए पेपर नैपकिन का इस्तेमाल करना सबसे अच्छा माना जाता है। इसके अलावा, फोन को पोछने के लिए नरम तौलिए का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

टॉवल से पोछने के बाद सबसे जरूरी काम होगा फोन के इंटरनल पार्ट्स को सुखाना। इसके लिए फोन को सूखे चावल में दबाकर एक बर्तन में रख दीजिए। चावल तेजी से नमी सोखते हैं। ऐसे में फोन के इंटरनल पार्ट्स सूख जाएंगे।

चावल के बर्तन में अगर फोन को ना रखना चाहें तो सिलिका जेल पैक (silica gel pack) का इस्तेमाल भी किया जा सकता है। ये जेल पैक्स जूतों के डिब्बों, गैजेट्स बॉक्स में रखे जाते हैं। इनमें चावल से ज्यादा तेजी से नमी सोखने की ताकत होती है।

अपने फोन को कम से कम 24 घंटों तक सिलिका पैक या फिर चावल के बर्तन में रखे रहने दें। जब तक ये पूरी तरह सूख ना जाए इसे ऑन करने के बारे में मत सोचिए। फोन के साथ-साथ बैटरी और बाकी एक्सेसरीज को भी चावल में सुखाया जा सकता है। जब तक फोन पूरी तरह से ना सूखे, इसे ऑन ना करें।

24 घंटे के बाद जब फोन और उसके सभी पार्ट्स सूख जाते हैं और उसकी नमी दूर हो जाती है, तब उसे ऑन करें। यदि फोन अब ऑन नहीं हो रहा है तब उसे किसी सर्विस सेंटर पर दिखाएं।

  • फोन को ड्रायर से सुखाने की कोशिश ना करें। ड्रायर बहुत ज्यादा गर्म हवा फेंकता है ऐसे में फोन के सर्किट पिघल सकते हैं।
  • अगर फोन भीग गया है तो उसे तुरंत ऑफ करें। किसी और बटन का इस्तेमाल करने से शॉर्ट सर्किट का खतरा काफी बढ़ जाता है।
  • हेडफोन जैक और USB पोर्ट का इस्तेमाल तब तक ना करें जब तक फोन पूरी तरह से सूख ना गया हो। इससे नमी का खतरा बढ़ जाता है।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Response