लाइफस्टाइल

Happy International Mens Day 2020: अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस का इतिहास जानें, ऐसे बनाएं इसे ख़ास

7views


आज अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस है. (photo credit: pexels/Julian Jagtenberg)

Happy International Mens Day 2020: भारत में अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस पहली बार 2007 में 19 नवंबर को मनाया गया. आइए जानते हैं इस दिन को आप अपने पुरुष दोस्तों, सहकर्मियों, पिता, भाई और पति के लिए किस तरह यादगार बना सकती हैं…

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    November 19, 2020, 10:04 AM IST

Happy International Mens Day 2020: आज अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस है. आज पुरुषों के अधिकारों, स्वास्थ्य, पुरुषत्व के सकारात्मक गुणों की सराहना, लैंगिक समानता के लिए देश-विदेश के कई कोनों में जागरूकता अभियान चलाए जा रहे हैं. दरअसल, समाज भले ही पुरुष प्रधान हो लेकिन कई बार पुरुष भी अत्याचार का शिकार होते हैं. भारत में अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस पहली बार 2007 में 19 नवंबर को मनाया गया. आइए जानते हैं अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस का इतिहास और इस दिन को आप अपने पुरुष दोस्तों, सहकर्मियों, पिता, भाई और पति के लिए किस तरह यादगार बना सकती हैं…

अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस का इतिहास:
अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाने के मांग सबसे पहले सन 1923 में कुछ पुरुषों ने ही की, उनका कहना था कि महिला दिवस मनाया जाता है तो पुरुष दिवस भी मनाया जाना चाहिए. 19 नवंबर 1999 में त्रिनिदाद और टोबैगो के लोगों ने पहली बार अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाया. भारत में डॉ. जीरोम तिलकसिंह में पुरुषों के अधिकारों और उन्हें मुख्यधारा में लाने के लिए काफी प्रयास किए. डॉ. जीरोम तिलकसिंह के पिता जा जन्म 19 नवंबर को होता था. इसी तारीख को भारत में अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाने की शुरुआत हुई.

अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस 2020 की थीम:हर साल अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस अलग-अलग थीम के आधार पर मनाया जाता है. इस बार की थीम है – अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस 2020 की थीम ‘Better Health for Men and Boys’ है. यानी कि पुरुषों और लड़कों के सही स्वास्थ्य की तरफ काम करना.

अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस को ऐसे बनाएं ख़ास:

अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस देश और विदेशों में मनाया जाता है. इस दिन आप अपने दोस्तों, सहकर्मियों, भाई और पिता को ख़ास महसूस कराने के लिए आप उनके लिए कोई प्यार भरा मैसेज, ग्रीटिंग, शेविंग किट या शर्ट गिफ्ट कर सकती हैं. उन्हें बताइए कि वो आपके जीवन में क्या अहमियत रखते हैं.

! function(f, b, e, v, n, t, s) { if (f.fbq) return; n = f.fbq = function() { n.callMethod ? n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments) }; if (!f._fbq) f._fbq = n; n.push = n; n.loaded = !0; n.version = ‘2.0’; n.queue = []; t = b.createElement(e); t.async = !0; t.src = v; s = b.getElementsByTagName(e)[0]; s.parentNode.insertBefore(t, s) }(window, document, ‘script’, ‘https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’); fbq(‘init’, ‘482038382136514’); fbq(‘track’, ‘PageView’);



Source link

Leave a Response